Raavi News # मिल्कफैड पंजाब के चेयरमैन बने विधायक पाहड़ा हलके में पहुंचने पर भव्य स्वागत, लोगों ने आतिशबाजी व फुलों की वर्षा कर किया स्वागत

चुनाव अखाड़ा 2022

रावी न्यूज गुरदासपुर
शूगरफैड पंजाब के नवनियुक्त चेयरमैन हलका गुरदासपुर के विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा बुधवार को पहली बार हलके में पहुंचे। इस दौरान हलके के लोगों द्वारा जगह जगह उनका भव्य स्वागत करते हुए फुलों की वर्षां व आतिशबाजी की गई। विधायक पाहड़ा गुरदासपुर काहनूवान रोड पर स्थित गांव सिधवां से एक काफिले के रुप में खुली गाड़ी में सवार होकर विभिन्न गांवों से होते हुए गुरदासपुर शहर में पहुंचे।
विधायक पाहड़ा ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा उन्हें जो चेयरमैनी सौंपी गई है, वह उन्हें नहीं, बल्कि उनके हलके के लोगों को सौंपी गई है। उन्होंने कहा कि आगे मेरी जो भी उन्नति होगी, वह हलके के लोगों की उन्नति होगी। उन्होने कहा कि हलके का हर एक वर्कर उनके परिवार का सदस्य है। जिसके लिए वह हर समय हाजर है। पाहड़ा ने कहा कि उन्होंने पिछले पांच वर्षों के दौरान हलके का सर्वपक्षीय विकास कर लोगों के विश्वास अदा किया है। अगर लोग आगे भी उन पर विश्वास जताते रहे है तो वह किसी भी सूरत में उन्हें निराश नहीं होने देंगे।

विधायक पाहड़ा ने कहा कि उन्होंने यहां हलके का सर्वपक्षीय विकास करवाया है, वहीं शहर को साफ सुथरा बनाने के लिए नए सफाई कर्मचारियों की तैनाती करवाई गई और अब पंजाब सरकार द्वारा उन्हें जल्द ही रेगुलर किया जाएगा। सफाई कर्मचारियों द्वारा की गई दिन रात मेहनत के चलते गुरदासपुर शहर स्वच्छता सर्वेक्षण में पिछले पांच सालों में 3548 रैंक से 50वें रैंक पर पहुंचा है। उन्होंने कहा कि हलके के लोगों द्वारा आज जिस तरह से उनका स्वागत किया गया है, वह उसे कभी भुला नहीं सकते।
विधायक व चेयरमैन बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा का रोड शौ गांव सिधवां से शुरू हुआ जहां से भारी संख्या में नौजवान उनके आगे मोटरसाइकिल पर चल रहे थे। जबकि उनकी खुली गाड़ी के पीछे भी गाड़ियों का कई किलोमीटर लंबा काफिला चल रहा था। सिधवां के बाद विधायक पाहड़ा का तिब्बड़, बाहिया, पुल तिब्बड़ी, अड्डा बब्बेहाली, कोठे घराला, औजला, काहनूवान चौंक, कबूतरी गेट, बीज मार्किट, बाटा चौंक, लाइब्रेरी चौंक, हनुमान चौंक, तिब्बड़ी चौकं आदि में लोगों द्वारा स्वागत किया गया। विधायक व चेयरमैन पाहड़ा के स्वागत के लिए लोगों द्वारा जगह जगह फुलों की वर्षा कर आतिशबाजी की गई। एक तरफ जहां दुकानदारों व अन्य समर्थकों द्वारा बड़े स्तर पर आतिशबाजी का प्रबंध किया गया था, वहीं फुलों की वर्षा करने के लिए मोटरें लगाई गई थी।  

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.