Raavi news # बीएसएफ का दायरा बढ़ाकर केंद्र पंजाब को अपने कब्जे में लेना चाहती है-रंधावा

गुरदासपुर आसपास ताज़ा

विरोधी निचले स्तर की राजनीति कर नहीं कर सकते लोगों को गुमराह-पाहड़ा

रावी न्यूज गुरदासपुर (संदीप)
केंद्र सरकार बीएसएफ का अधिकार क्षेत्र बनाकर आधे से ज्यादा पंजाब को अपने कब्जे में लेना चाहती है। लेकिन ऐसा नहीं होने दिया जाएगा। पंजाब सरकार से आतंकवाद को खत्म करने में अहम भूमिका निभाने वाली पंजाब पुलिस ही पंजाब की सुरक्षा के लिए काफी है। अगर जरुरत होगी तो हम खुद बीएसएफ को बुलाएंगे, वरना उन्हें कोई अधिकार नहीं देंगे। उक्त विचार पंजाब के डिप्टी मुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने गांव तिब्बड़ में हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा की देखरेख में करवाए गए पहले किसानों को समर्पित सभ्याचारक व कबड्डी टूर्नामेंट के दौरान लोगों को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।

गांव भुंबली में आयोजित कबड्डी मेले में हिस्सा लेने वाले खिलाड़ियों के साथ हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा व अन्य

रंधावा ने कहा कि अगर बीएसएफ या आर्मी आतंकवाद को खत्म कर सकती है तो जम्मू कश्मीर में अब तक आतंकवाद क्यों खत्म नहीं हुआ, जबकि वहां पर सभी तरह की सुरक्षा एजेंसियां तैनात है। उन्होंने कहा कि अगर पंजाब में नशा रोकना है और सुरक्षा को बढ़ाना है तो बीएसएफ सीमा पर गेटों को मजबूत करें जहां से पंजाब में नशा सप्लाई होता है। जरुरत पड़ी तो पंजाब में पुलिस की गश्त बढ़ाई जाएगी। उन्होंने कहा कि आज जिस पंजाब पर केंद्र उंगली उठा रहा है देश की आजादी के दौरान 80 फीसदी कुर्बानियां पंजाबियों ने दी है।
रंधावा ने कहा कि 1959 के बाद पहली बार गुरदासपुर जिले को गृह विभाग मिला है। इससे पहले दरबारा सिंह को गृह विभाग दिया गया था। उन्होंने कहा कि न तो उन्होंने अपनी पगड़ी पर कोई दाग लगने दिया था और न ही लगने देंगे। रंधावा ने कहा कि उन्होंने बाबा नानक का  550वां प्रकाशोत्सव मनाया था। जिसका फल उन्हें मिला है। रंधावा ने कहा कि जल्द ही करतारपुर कारिडोर भी खुल जाएगा। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर बरसते हुए रंधावा ने कहा कि पंजाब आकर केजरीवाल पंजाबियों के हक की बात करते है, लेकिन दिल्ली पहुंचते है बोलते है कि दिल्ली में पंजाब से प्रदूषण आ रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान दिल्ली सबसे अधिक प्रभावित हुई थी। जबकि पंजाब में इसका असर सबसे कम था। इसी तरह पंजाब एजुकेशन में भी दिल्ली से आगे है। उन्होंने कहा कि लोग बाहर से आकर पंजाब के लोगों पर ऊंगली उठाते है, जिसे सहन नहीं किया जाएगा। हाल ही में अकाली दल के पंजाब प्रधान सुखबीर सिंह बादल द्वारा हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा व कुछ अन्य विधायकों के खिलाफ की गई टिप्पणी पर तंज कसते हुए रंधावा ने कहा कि उनका गुस्सा करने की जरुरत नहीं है। जो अपने ही पिता को पिता सम्मान बोल सकते है, उनका क्या गुस्सा करना। उन्होंने गांव तिब्बड़ की पंचायत को अपने अख्तियारी फंड से दस लाख रुपए देने की घोषणा की।
विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा ने कहा कि विरोधियों द्वारा उनके खिलाफ झूठी ब्यानबाजी कर निचले स्तर की राजनीति की जा रही है। चुनाव के दौरान उन्होंने हलके में नया बस अड्डा व तिब्बड़ी रोड पर अंडरब्रिज बनाने का वायदा किया था। जिसमें से बस अड्डे का काम शुरु हो चुका है, जबकि एक सप्ताह के भीतर अंडरब्रिज का काम भी शुरु हो जाएगा। उन्होंने कहा कि सैनिक स्कूल व मेडिकल कालेज का उन्होंने कोई वायदा नहीं किया था। हालांकि इन दोनों प्रोजेक्टों पर भी काम शुरु हो चुका है और फाइल केंद्र के पास अटकी हुई है। अगले कार्यकाल के दौरान वह उक्त दोनों प्रोजेक्टों को भी पूरा करवाएंगे।
काबिलेजिक्र है कि सुखबीर बादल द्वारा गुरदासपुर दौरे के दौरान हलका गुरदासपुर के विधायक व पंजाब के कुछ अन्य विधायकों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए गए थे। विधायक पाहड़ा द्वारा उक्त सभी विधायकों को भी मेले में बुलाकर यह दावा किया गया कि अगर उन पर लगे आरोपों को साबित कर दिया जाए तो वह अगला चुनाव नहीं लड़ेंगे। लेकिन उन्हें यह भी वायदा करना होगा कि वह ऐसा नहीं कर पाए तो उन्हें भी राजनीति छोडऩी होगी। विधायक पाहड़ा ने कहा कि उनके लिए हलके का हर व्यक्ति विधायक है। जिस तरह से लोग उन पर विश्वास जता रहे है, उससे उन्हें और भी मजबूती से काम करने की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने लोगों से कहा कि वह उनके लिए यही अरदास करें कि वह इसी ईमानदारी के साथ काम करते रहें।  इस मौके पर विधायक कुलबीर सिंह जीरा, विधायक प्रीतम सिंह कोट भाई, विधायक दर्शन सिंह बराड़, विधायक दविंदर सिंह घुबाया विशेष रुप से शामिल हुए। इसके अलावा लेबरसैल पंजाब के चेयरमैन गुरमीत सिंह पाहड़ा, नगर कौंसिल प्रधान एडवोकेट बलजीत सिंह पाहड़ा, एसएसपी गुरदासपुर डा. नानक सिंह, मेले के मुख्य प्रबंधक जगबीर सिंह जगगी पाहड़ा, केपीएस पाहड़ा उपस्थित थे। सभ्याचारक कार्यक्रम में पंजाब की मशहूर गायकी गुरलेज अख्तर व कुलविंदर कैली ने दर्शकों का मनोरंजन किया। गुरलेज अख्तर द्वारा अपने कई हिट गीत तेरे यार नूं दबन नूं फिरदे सी, मिर्जा आदि पेश कर दर्शकों की वाहवाही लूटी। वहीं पंजाबी फिल्मों के हास्य कलाकार हारबी संघा ने भी अपनी कलाकारी से दर्शकों का खूब मनोरंजन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *