सरकार के निर्देशों के बावजूद बीडीपीओ ने गांव में शुरु करवाया काम. गांव में स्थिति तनावपूर्ण, पुलिस ने संभाला मौका

गुरदासपुर आसपास

रावी न्यूज गुरदासपुर

पंजाब सरकार की ओर से यहां पूरे पंजाब में पंचायतों के विकास कार्यों पर पत्र जारी कर रोक लगाई हुई है। वहीं बीडीपीओ गुरदासपुर की ओर से सात अप्रैल को अलग रुप से एक पत्र जारी कर गुरदासपुर के गांव हयातनगर की पंचायत को कोई भी विकास कार्य न करवाने की हिदायत की गई थी। जबकि अब बीडीपीओ द्वारा खुद ही सरकार के निर्देशों को अनदेखा कर गांव में नाला बनाने का काम करवाने का प्रयास किया गया। जिसमें गांव की पंचायत को भी भरोसे में नहीं लिया गया। मामले की सूचना मिलने के उपरांत हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा व नगर कौंसिल गुरदासपुर के प्रधान एडवोकेट बलजीत सिंह पाहड़ा अपने साथियों सहित मौके पर पहुंचे और पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत कर काम बंद करवा दिया।

गौरतलब है कि पंजाब में नई बनी भगवंत मान सरकार द्वारा पत्र जारी कर फिलहाल पूरे पंजाब के गांवों में कोई भी विकास कार्य करवाने पर रोक लगाई गई है। इसी बीच बीडीपीओ गुरदासपुर द्वारा हलके गुरदासपुर के एकमात्र गांव हयातनगर को अलग से पत्र जारी कर कोई भी विकास कार्य न करवाने की हिदायत जारी की गई। लेकिन शनिवार को बीडीपीओ बलजीत सिंह अपने कुछ अधिकारियों के साथ खुद ही पंजाब सरकार और अपने जारी पत्र के खिलाफ जाते हुए गांव के एक नाले का काम करवाने पहुंच गए। बीडीपीओ द्वारा बिना पंचायत को विश्वास में लिए नाले के लिए सामान भी गांव में भेज दिया गया। जिसकी सूचना मिलते ही गांव की पंचायत एकजुट होकर इसके विरोध में खड़ी हो गई और मामला हलका विधायक बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा के ध्यान में भी लाया गया। पंचायत के विरोध के चलते गांव में स्थिति तनावपूर्ण बन गई। हालांकि पुलिस अधिकारियों के मौके पर पहुंचने के चलते बड़ा टकराव होने से टल गया।

मौके पर पहुंचे विधायक बरिंदरमीत ंिसह पाहड़ा ने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा पंचायतों के कामो पर रोक लगाई गई है। वह खुद का सरकार का हिस्सा होने के चलते सरकार के इस फैसले के समर्थन करते है। जबकि बीडीपीओ गुरदासपुर सरकार के निर्देशों की धज्जियां उड़ाकर नियमों के उल्ट गांव में काम करवाना चाहता है। उन्होंने बताया कि गांव में पूर्ण बहुमत से पंचायत सरपंच कुलवंत कौर के नेतृत्व में कार्य कर रही है। इसके बावजूद बीडीपीओ, पंचायत सचिव निर्मल सिंह और जेई रमनदीप सिंह द्वारा गांव में विकास कार्य शुुरु करवाने से पहले पंचायत को विश्वास में नहीं लिया गया। उन्होंने कहा कि एक तरफ पंजाब सरकार का दावा है कि कानून के उल्ट कोई भी काम नहीं किया जाएगा। लेकिन दूसरी तरफ उनके अपने ही नेता अधिकारियों पर दबाव बनाकर उनसे गलत कार्य करवा रहे है। लेकिन वह सरकार का हिस्सा होने के चलते ऐसा कार्य नहीं होने देंगे।

विधायक पाहड़ा ने कहा कि अधिकारियों को यह बात नहीं भूलनी चाहिए कि आज जिन लोगों के दबाव में वह इस तरह सरकार के खिलाफ जाकर काम कर रहे है, उन्हें लोग नकार चुके है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को वह विधानसभा में भी उठाएंगे।

जैसे ही गांव हयातनगर में बीडीपीओ द्वारा धक्केशाही से काम शुरु करवाने और विधायक के मौके पर पहुंचने की बात क्षेत्र के लोगों को पता चली तो आसपास के गांवों के कांग्रेसी सरपंच व वर्कर बड़ी संख्या में गांव में पहुंच गए। जिसके चलते स्थिति टकरावपूर्ण बन गई। हालांकि मौके पर मौजूद भारी पुलिस बल द्वारा स्थिति पर नियंत्रण पा लिया गया।

बीडीपीओ गुरदासपुर बलजीत सिंह से संपर्क करने पर उनका कहना है कि गांव में गंदे पानी की निकासी की अधिक समस्या होने के चलते काम शुरु करवाया गया था। लेकिन हलका विधायक के विरोध के चलते काम बंद करवा दिया गया है। जब उनसे काम शुरु करवाने से पहले ग्राम पंचायत को विश्वास में लाने संबंधी पूछा गया तो वह कोई संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाए। हालांकि उन्होंने यह भी माना कि काम शुरु करवाने से पहले पंचायत को विश्वास में लाना जरुरी होता है।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.