50 हजार रुपये के लिए आरएमपी डाक्टर की हत्या, परिजनों के पहुंचते ही शव छोड़ भागे

Breaking News क्राइम पंजाब राष्ट्रीय होम

रावी न्यूज

बहरामपुर : थाने के पास क्लीनिक चलाने वाले आरएमपी डाक्टर मोहित नंदा की 50 हजार रुपये के लिए उनके पड़ोसी दुकानदार ने हत्या कर दी। वीरवार रात मोहित नंदा की हत्या कर आरोपित शव बोरी में डालकर फेंकने की तैयारी कर ही रहे थे कि मोहित नंदा की पत्नी और उनका चाचा पहुंच गए, जिन्हें देखकर आरोपित भाग गए। मोहित नंदा का शव आरोपित दुकानदार की दुकान (बूट हाउस) में मिला, जोकि थाने के बिल्कुल पास स्थित है।

मोहित नंदा की पत्नी पूनम नंदा ने पुलिस को बताया कि उनके पति थाने के पास क्लीनिक चलाते हैं। उनका पति रात नौ बजे के करीब क्लीनिक बंद कर घर आ जाते हैं। वीरवार की शाम उन्होंने साढ़े छह बजे अपने पति को फोन किया तो उन्होंने बताया कि वह लखविदर सिंह उर्फ लक्की से पैसे लेने आया हुआ है। जब उनका पति साढ़े नौ बजे घर नहीं लौटा तो उन्होंने उनकी तलाश शुरू कर दी। मोहित नंदा का फोन भी बंद आ रहा था। इसके बाद वह घबरा गई। वे और उनका चाचा ससुर जाबराज नंदा पति की क्लीनिक पहुंची तो क्लीनिक खुली थी, मगर वहां पर उनका पति नहीं था। इस दौरान क्लीनिक के पास ही सड़क पर लखविदर सिंह उर्फ लक्की व अमन निवासी पसियाल खड़े थे, जो उन्हें देखकर घबरा गए। जब उन्हें मोहित के बारे में पूछा तो उन्होंने कुछ नहीं कहा और मोटरसाइकिल पर जल्दी से बहरामपुर अड्डे की ओर चले गए। इसके बाद उन्हें शक हो गया और थाने के समीप लखविदर की दुकान के पास पहुंचे तो उसकी दुकान की लाइट जल रही थी। पंखा भी चल रहा था, लेकिन दुकान का शटर नीचे था। उस पर ताला नहीं लगा हुआ था। संदेह होने पर जब दुकान के शटर को उठाया तो देखा कि मोहित का शव एक बोरी में पड़ा हुआ था। फर्श पर बहुत खून बिखरा हुआ था। पूनम नंदा ने बताया कि उसके पति मोहित नंदा से लखविदर सिंह ने 50 हजार रुपये उधार लिए थे। इसकी वह रोजाना 500 रुपये किस्त देता था। इधर कुछ दिनों से वह पैसे देने में आनाकानी करता था। उन्होंने आशंका जताई कि शायद आज जब मोहित पैसे लेने आए होंगे तो लखविंदर से कहासुनी हो गई होगी। इसी के चलते लखविदर और अमन ने साजिश बनाकर उनके पति का कत्ल कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *