हड़ताल : पनबसों के पहिये थमने से यात्री रहे परेशान

Breaking News पंजाब राजनीति

पठानकोट: रेगुलर करने की मांग को लेकर सोमवार से पंजाब रोडवेज पनबस कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। कर्मचारियों के हड़ताल पर चले जाने के कारण सरकारी बसों के पहिये थम गए हैं। सरकारी बस सर्विस बाधित होने के कारण लोगों खास तौर पर पास होल्डर व महिला यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ा। हड़ताली कर्मचारी रेगुलर किए जाने का आदेश जारी होने तक हड़ताल पर डटे रहने की बात कर रहे हैं, वहीं विभागीय अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही समस्या का हल हो जाएगा।

हड़ताल के चलते महिल एवं पास होल्डर यात्रियों को ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ा। महिला यात्री कमलेश कुमारी, आशा रानी, रेखा रानी, मधु बाला व सतीश कुमारी आदि ने बताया कि पनबस कर्मियों की हड़ताल के चलते न मात्र रोडवेज बसें चल रही हैं। एक घंटे बाद जब कोई बस आती है तो वह मिनटों में ही भर जाती है। लिहाजा, उन्हें अब प्राइवेट बसों में पैसे खर्च कर यात्रा करनी पड़ रही है। पास होल्डर साहिल शर्मा, निखिल कुमार, रविद्र कुमार आदि ने बताया कि सरकारी बस सेवा बाधित होने के कारण उन्हें प्राइवेट बसों में पूरा किराया खर्च करना पड़ा। जब तक रेगुलर करने का आदेश जारी नहीं होता हड़ताल जारी रहेगी : सुखविद्र

हड़ताल पर बैठे प्रधान पंजाब रोडवेज पनबस वर्कर यूनियन शाखा प्रधान सुखविद्र सिंह, चेयरमैन गुरमीत सिंह, वाइस चेयरमैन राज कुमार, महासचिव कमल ज्योति ने कहा कि वह पिछले 13 वर्षों से ठेकेदारी प्रथा के तहत काम कर रहे हैं। पूर्व की अकाली-भाजपा सरकार ने भी दस वर्षो तक उनकी भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है। अब कैप्टन सरकार भी यही कर रही है। इसी बात को देखते हुए अब अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। उन्होंने कहा कि यह हड़ताल तब ही खत्म होगी जब उन्हें रेगुलर करने का आदेश जारी होगा। हायर अथारिटी से हड़ताली कर्मचारियों की हो रही वार्ता : जीएम

पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो के जनरल मैनेजर सरदार दर्शन सिंह गिल ने बताया कि हड़ताल के चलते पहले दिन 13 बसें ही चल पाई। यह बसें पक्के स्टाफ के साथ चलाई गई, जिसमें चंडीगढ़ के लिए तीन, अमृतसर और जालंधर के लिए पांच-पाचं बसें चली। उन्होंने कहा कि बसें न चलने के कारण कितना नुक्सान हुआ इसका आंकलन कल सुबह हो पाएगा। फिलहाल, हड़ताली कर्मियों की विभाग के उच्चाधिकारियों से बात चल रही है। उम्मीद है कि मसले का हल जल्द निकल आएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *