मनरेगा वर्कर्स यूनियन ने डीसी कार्यालय के सामने दिया धरना

Breaking News गुरदासपुर पंजाब

गुरदासपुर : अपनी मांगों को लेकर मनरेगा वर्कर्स यूनियन ने डीसी कार्यालय के सामने धरना दिया। धरने के बाद डीसी मोहम्मद इशफाक के जरिए देश के प्रधानमंत्री और पंजाब के मुख्यमंत्री के नाम पर मांगपत्र भेजा। इससे पहले यूनियन ने शहर में रोष रैली निकाली, जिसकी अध्यक्षता सुनील ने की।

वक्ताओं ने कहा कि मनरेगा 2005 के अनुसार पंजाब में मनरेगा की दिहाड़ी 269 रुपये तय की गई है, जबकि पड़ोसी राज्य हरियाणा की मनरेगा की दिहाड़ी 315 रुपये तय है। पंजाब व हरियाणा में एक ही महंगाई है, मगर केंद्र सरकार ने पंजाब के मनरेगा श्रमिकों की कम दिहाड़ी तय करके पंजाब के साथ सौतेला व्यवहार किया है। पंजाब सरकार ने कभी भी मनरेगा श्रमिकों के हक में केंद्र सरकार समक्ष आवाज नहीं उठाई। उन्होंने कहा कि पंजाब में मनरेगा कर्मचारी पिछले कई माह से हड़ताल पर बैठे, लेकिन किसी भी अधिकारी ने मनरेगा श्रमिकों की काम के मांग के आवेदन नहीं लिए और न ही पंजाब के किसी भी गांव में मनरेगा के अदीन काम मिला है। इससे कोरोना महामारी के कारण बेरोजगार हुए परिवार भुखमरी का शिकार हो रहे हैं। पेंडू विकास व पंचायत विभाग की गलत नीतियों के कारण एक भी मजदूर को सप्ताहिक छुट्टी के पैसे नहीं मिले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *