नशा छोड़ने की दवा न मिलने से युवक ने तोड़ा दम

Breaking News

रावी न्यूज गुरदासपुर

शहर के मोहल्ला इस्लामबाद में रहने वाले एक युवक की नशा छोड़ने की दवा न मिलने मौत हो गई। युवक की पहचान 32 वर्षीय प्रिंस के रूप में हुई है। इस्लामाबाद में नशा इस कदर फैल चुका है कि नशे की चपेट में अधिकतर युवा फंस चुके है। जो इस दलदल से बाहर निकलने के लिए सिविल अस्पताल की नशा मुक्ति केंद्र से नशा छोड़ने की दवा ले रहे हैं। लेकिन स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की हड़ताल के वजह से पिछले छह दिनों से इन सभी मरीजों को दवा नहीं मिल रही है। दवा न मिलने अधिकतर मरीजों में घबराहट और शरीर कांपने जैसी कई तरह की समस्या आ रही है।  कुछ इसी तरह की परेशानी से मोहल्ला इस्लामाबाद के वार्ड नंबर दस बसंत एवेन्यू निवासी 32 वर्षीय प्रिस की शनिवार देर शाम को मौत हो गई। प्रिस पिछले दो दिनों से सिविल अस्पताल से दवा न मिलने के कारण बीमार चल रहा था। प्रिंस के परिजन पहले तो उसका एक निजी अस्पताल में इलाज करवा रहे थे, लेकिन उसकी हालत बिगड़ ने लगी। मृतक प्रिस के चाचा राज कुमार लाटू, भाई कमल कुमार, राकेश कुमार आदि ने बताया कि प्रिस पिछले कुछ महीनों से नशा कर रहा था। जिसके चलते उसे परिजनों ने भी कई बार समझाने का प्रयास किया, लेकिन वह किसी की नहीं सुनता था और अब वह अपनी पत्नी, दो वर्षीय बेटे के साथ बसंत एवेन्यू में अलग रह रहा था। शुक्रवार को प्रिस की पत्नी का फोन आया कि उसकी तबीयत अचानक बिगड़ रही है। जिसके चलते उसके चाचा व अन्य रिश्तेदार उसे इलाज के लिए रेलवे रोड पर स्थित एक निजी अस्पताल में लेकर गए। जहां पर डाक्टरों ने उसकी हालत गंभीर बताई। वहीं शनिवार शाम को प्रिस की ह्रदय गति रुकने से मौत हो गई। सिविल अस्पताल में दी जा रही है नशा छोड़ने की दवा

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.