दिल्ली अंदोलन में शामिल होने के लिए लोग नहीं हो रहे थे तैयार, किसान ने दे दी जान

दुनिया

रावी नेटवर्क

डेरा बाबा नानक। किसान आंदोलन से जुड़े निकटवर्ती गांव गुयारा के रहने वाले एक 46 वर्षीय किसान ने रविवार सुबह जहरीला पदार्थ खाकर जान दे दी। वह दो दिनों से इलाके के किसानों को ट्रैक्टर-ट्राली में लेकर दिल्ली जाने की तैयारी कर रहा था। लेकिन दिल्ली जाने के लिए अधिक किसान तैयार नहीं होने के कारण निराश होकर आत्महत्या कर ली। पुलिस थाना कोटली सूरत मल्ली ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल बटाला में भेज दिया है।

गांव गुयारा के मृत किसान परविदर सिंह के पिता अजीत सिंह, गांव के गणमान्य गुरदयाल सिंह, सुखराज सिंह, पृथीपाल व कंवलजीत सिंह ने बताया कि परविंदर सिंह दिल्ली में चल रहे आंदोलन में शिरकत कर चुका था। वह जम्हूरी किसान सभा की इकाई कलानौर से संबंधित था। फिर से दिल्ली किसान आंदोलन में जाने के लिए उसने शनिवार को तैयारी की थी। रविवार सुबह उसने दिल्ली आंदोलन में शिरकत करने के लिए ट्रैक्टर-ट्राली को गुरुद्वारा साहिब के बाहर लगाया हुआ था। इसके बाद उसने गुरुद्वारा साहिब में लगे स्पीकर के जरिए अनाउंसमेंट की कि अपनी जमीन को बचाने के लिए अधिक से अधिक गांव के लोग दिल्ली चले। बार-बार अनाउसमेंट करने के बाद कुछ ही लोग दिल्ली चलने के लिए तैयार हुए। निर्धारित समय तक ट्रैक्टर-ट्राली लोगों से नहीं भरने से परविंदर मानसिक तौर पर परेशान हो गया। इसके बाद उसने जहरीला पदार्थ खाकर जान दे दी। उसका शव गांव के श्मशानघाट से मिला। दो बेटियों का पिता था परविंदर

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.