चन्नी अपनी कुर्सी से समझौता न करते तो बलबीर सिद्धू पर दर्ज होते कई मुकद्दमे, सिद्धू को कोरोना, किट घोटाले, मैक्स अस्पताल, बस स्टैंड और गौशाला ज़मीन घोटाले के मुद्दों पर घेरा

एस.ए.एस नगर

रावी न्यूज एस.ए. एस. नगर (गुरविंदर मोहाली)

शहर के प्रसिद्ध समाज सेवी और आम आदमी पार्टी के लोक सभा हलका श्री आनन्दपुर साहिब के इंचार्ज डाक्टर सनी अहलूवालिया ने स्थानीय कांग्रेसी विधायक और पूर्व मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू निजी और राजनैतिक स्वार्थों के लिए सत्ता के दुरुपयोग के गंभीर दोष लगाए हैं। डा. सनी सिंह अहलूवालिया ने यह भी कहा कि मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने कुर्सी के लिए समझौतावादी पहुंच अपना ली है, यदि ऐसा न होता तो बलबीर सिंह सिद्धू पर एक नहीं, बल्कि कई मुक़दमे दर्ज हो चुके होते, जिसके लिए बलवीर सिंह सिद्धू को मंत्री की कुर्सी से उतारा गया था। डाक्टर सनी अहलूवालिया आज यहां मोहाली में प्रैस कान्फ्रेंस दौरान पत्रकारों के साथ बातचीत कर रहे थे।

डाक्टर सनी अहलूवालिया ने कहा कि आज मोहाली की जनता बलबीर सिंह सिद्धू और कांग्रेस पास से कई सवालों का जवाब मांग रही है। जिनका जवाब कांग्रेस के बलबीर सिंह सिद्धू को आज नहीं तो कल जनता की कचहरी में देना ही पड़ेगा? अहलूवालिया ने कहा कि बलबीर सिंह सिद्धू कई सालों से सेहत मंत्री रह चुके हैं। दुनिया भर में फैली कोरोना महामारी के समय भी सिद्धू सेहत मंत्री थे, परन्तु फिर भी कोरोना का कहर मोहाली ज़िले में सबसे अधिक रहा। क्या इस प्रकोप के लिए बतौर सेहत मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ख़ुद को ज़िम्मेदार नहीं मानते? जो कोरोना महामारी को भी सरकारी पैसा हड़पने का साधन बनाने से नहीं झिझके। ‘फ़तेह किट’ घोटाला इसकी ठोस मिसाल है। प्रति किट 780 रुपए का टेंडर बदल कर 1400 रुपए प्रति किट तक कीमत बढ़ा दी गई, फिर भी जरुरतमंद मरीज़ों को यह किटें घरों में नहीं बांटी गई, मोहाली में कोरोना से ज़्यादा मौतों का एक कारण यह भी माना जा रहा है। डा. सनी अहलूवालिया ने सवाल उठाया कि बादल सरकार की ओर से मोहाली के सरकारी अस्पताल की अरबों रुपए की 2 एकड़ ज़मीन कॉर्पोरेट कंपनी के मैक्स अस्पताल को कौड़ियों के दाम में दे दी गई थी, बतौर विधायक बलबीर सिद्धू इस सेहत माफिया के विरुद्ध न तब बोले और न ही सेहत मंत्री बन कर इस घोटाले की कोई जांच करवाई, क्योंकि ख़ुद इस माफिया के साथ मिल हुए हैं। क्या बलबीर सिद्धू बताएंगे कि सरकारी अस्पताल की ज़मीन पर बने मैक्स अस्पताल की ओर से अब तक कितने ग़रीबों और आम परिवारों के मरीज़ों को मुफ़्त या छूट दरों पर इलाज कर चुका है? डा. अहलूवालिया ने कहा कि मैक्स अस्पताल गरीबों को मुफ़्त में कोई सेहत सुविधा नहीं देता, जबकि देनी चाहिए, परन्तु क्योंकि सत्ताधारी सेहत माफिया का ख़ुद हिस्सा हैं, इस लिए ऐसे कॉर्पोरेट अस्पताल आम लोगों की कोई परवाह नहीं करते।

डा. सनी अहलूवालिया ने कहा कि लोग बलबीर सिद्धू से मोहाली के बन्दा सिंह बहादुर बस स्टैंड के बारे में जवाब मांग रहे हैं कि कौन से कारणों के चलते आज मोहाली के लोगों को बस स्टैंड से वंचित करके सजा जी जा रही है।

डा. अहलूवालिया ने कहा कि 8 फेज वाले बस अड्डे को बंद कर दिया गया जबकि नये बस अड्डे पर अरबों रुपए ख़र्च करके भी मुकम्मल नहीं किया। डा. अहलूवालिया ने इस को बड़ा घपला और धोखा बताते हुए कहा कि इस प्रॉजेक्ट में सरकारी ख़ज़ाने के ही नहीं बल्कि आम लोगों के भी करोड़ों रुपए फंसा दिए गए, परंतु बतौर विधायक या मंत्री बलबीर सिद्धू ने बस अड्डे के बारे में कभी मुंह नहीं खोला, क्योंकि बच्चा-बच्चा जानता है कि बादल सरकार के दौरान ऐसे विरोधी फ़ैसले लेने वालों के साथ कांग्रेसी होते हुए भी बलबीर सिद्धू के कारोबार साँझे रहे हैं।

डा. अहलूवालिया ने कहा कि बाकि तो छोड़ो बलबीर सिद्धू मोहाली के लोगों को अरबों-खरबों रुपए के 100 एकड़ गौशाला लैंड घोटाले के बारे में ही बता दें? जिसको दबने के लिए बलबीर सिद्धू ने न केवल ग़ैरक़ानूनी तरीके से ट्रस्ट बनाया बल्कि उस ट्रस्ट का चेयरमैन भी ख़ुद ही बन गए। लोग दैड़ी गांव में इसी तरीके से दबाई गई ज़मीन का हवाला दे बलबीर सिद्धू से हिसाब मांग रहे हैं, जिस को माननीय अदालत ने कानूनी डंडों के साथ छुड़वाया था।

डा. अहलूवालिया ने कहा कि यदि मुख्यमंत्री चन्नी सचमुच इमानदारी के साथ सरकार चलाते होते तो बलबीर सिद्धू आज बहुत से मुक़दमे भुगत रहे होते और जेल में होते, परंतु चन्नी मुख्यमंत्री की कुर्सी बचाए रखने के लिए बलबीर सिद्धू और दूसरे भ्रष्ट मंत्रियों (पूर्व) विरुद्ध मिसालिया कार्यवाही कर चुके होते। इस करके चरणजीत सिंह चन्नी को भी लोगों के तीखे सवालों का सामना करना पड़ रहा है।

Share and Enjoy !

Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published.