गुरुद्वारा शेरे पंजाब महाराजा रणजीत सिंह के हेड ग्रंथि के बेटे ने की आत्महत्या

क्राइम ताज़ा

रजिंदर सैनी

दीनानगर।स्थानीय गुरुद्वारा शेरे पंजाब महाराजा रणजीत सिंह के हेड ग्रंथि के बेटे ने आत्महत्या कर जीवनलीला समाप्त कर ली। मृतक के परिवार ने अन्य लोगो पर आत्महत्या के लिए मजबूर करने का लगाया आरोप लगाया है।


गौरतलब है कि गुरुद्वारा शेरे पंजाब महाराजा रणजीत सिंह   प्रबंधक कमेटी के प्रधान  पद को लेकर आपसी विवाद चल रहा था। विवाद इतना बढ़ गया कि पुलिस स्टेशन तक जा पहुंचा। इस बीच गुरुद्वारा साहिब के प्रधान को लेकर चल रहे विवाद को खत्म करने के लिए नगर के गणमान्य लोगों ने सर्वसम्मति से प्रबंधक कमेटी का प्रधान नियुक्त कर दिया। इस बीच कुछ लोगों ने विवाद को खत्म होता देख गुरुद्वारा साहिब में काफी समय से सेवा कर रहे हेड ग्रंथि के परिवार पर आरोप-प्रत्यारोप लगाना शुरू कर दिया। आज सुबह आरोप-प्रत्यारोप से परेशान होकर हेड ग्रंथि जगीर सिंह के बड़े बेटे  दविंदर सिंह जो अपने पिता के साथ ही गुरुद्वारा साहिब में रहता था।

मृतक दविंदर सिंह ने आज सुबह 10 बजे के करीब गुरुद्वारा साहिब के दीवान हाल के अंदर छत के बीच रखे फेन बॉक्स में रस्सा डाल कर आत्महत्या कर ली। मृतक देवेंद्र सिंह के परिवार वालों ने गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के एक पूर्व पदाधिकारी व अन्य लोगों पर दिन प्रतिदिन आरोप-प्रत्यारोप लगाकर उनको गुरुद्वारा से निकालने की साजिश  से परेशान होकर उनके बड़े बेटे ने आज मजबूर होकर आत्महत्या कर ली। प्रत्यक्षदर्शी गुरुद्वारा साहिब के सेवादार करनैल सिंह ने बताया कि आज सुबह जब वह कोई सामान लेने के लिए  दीवान हॉल में गया तो वहां उसने दविंदर सिंह को छत में रस्से के साथ लटके देखा, तो उन्होंने दूसरे लोगों को बुलाकर रस्सा काट कर उसको एक निजी अस्पताल में लेकर गए। जहां पर डॉक्टरों ने उसे  मृत घोषित कर दिया। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर अपनी कार्रवाई शुरू कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *